Spread the love

भाजपा के जिलाध्यक्ष धीरज नरयाल ने  चंबा में आयोजित प्रेसवार्ता में कहा कि जिले के हज़ारों किसान खाद के लिए दर दर की ठोकरें खा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कायदे से जो खाद किसानों को एक माह पहले मिल जानी चाहिए थी उस खाद से आज किसान महरूम हैं। उन्होंने सरकार और प्रशासन को चेतावनी दी है कि दो से तीन दिन के भीतर किसानों को खाद नहीं मिली तो जिला मुख्यालय चंबा में किसानों को लामबंद कर उपायुक्त कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन करने से भी भाजपा गुरेज नहीं करेगी। भाजपा के जिला अध्यक्ष धीरज नरयाल ने कहा कि जिले के 70 फीसदी किसान साल में एकमात्र मक्की की फ़सल लगाकर ही अपनी साल भर की आजीविका कमाते हैं ऐसे में जब उन्हें समय पर खाद नहीं मिल पाई है तो वो परेशान हैं। उन्होंने बताया कि हिमफेड के दफ्तर की ओर से परेल गोदाम के लिए 5000 बोरी की डिमांड भेजी

गई थी लेकिन मिली सिर्फ़ 2640 खाद की बोरी हैं। इसी तरह कुरांह गोदाम के लिए मांगी गई  5000 खाद की बोरी की एवज में महज़ 1440 खाद की बोरी मिली हैं। तो वहीं चुवाड़ी गोदाम के लिए मांगी गई 7000 खाद की बोरी की जगह  मात्र 1200 बोरी खाद मिलीं हैं। सलूणी में जरुरत 7000 बोरी की थी लेकिन मिली 1440 खाद की बोरी हैं। इसके अलावा तीसा में 5000 खाद की बोरी की जरूरत होने पर डिमांड भेजी गई थी लेकिन 2640 खाद की बोरी ही मिली हैं‌। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में खाद की कोई कमी नहीं थी लेकिन वर्तमान कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में खाद की भारी किल्लत है जिसकी वजह से किसान परेशान हैं। उन्होंने कहा कि किसान इसलिए भी परेशान हैं क्योंकि 280 में मिलने वाली खाद की बोरी उन्हें 530 रुपये में ब्लैक में खरीदने को मजबूर होना पड़ रहा है। 

भाजपा के जिलाध्यक्ष धीरज नरयाल ने हैंरानी  जताते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने किसानों की आर्थिकी को बढ़ाने को जितने भी कार्यक्रम चलाए थे। उन सभी कार्यक्रमों को वर्तमान कांग्रेस सरकार ने फेल कर दिया है। सरकार और उसके मंत्री मौज मस्ती में हैं। उन्होंने कहा कि मिंजर मेले में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और मंत्री में घूमने आए लेकिन किसी ने भी किसानों की तकलीफ़ जानने का प्रयास नहीं किया। चूंकि मक्की की फ़सल को खाद डालने का इस वक्त सही समय है ऐसे में जब खाद ही नहीं मिल पा रही है तो किसान परेशान हैं लेकिन खेद का विषय तो यह है कि किसानों की इस समस्या को न तो सुनने और ना ही उनके समाधान को न तो कृषि विभाग और सरकार के मंत्री पास वक्त है। बहरहाल दो से तीन दिन के भीतर यदि किसानों की खाद की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो किसानों को लामबंद करते हुए जिला मुख्यालय चंबा में उपायुक्त कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

इस मौके पर पूर्व विधायक पवन नैय्यर और जिला भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष महाराज कृष्ण बडियाल भी मौजूद रहे‌।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *