Spread the love

विधानसभा अध्यक्ष  कुलदीप सिंह पठानिया ने कहा  है कि जारी  मॉनसून के दौरान प्राकृतिक आपदाओं से अब तक ज़िला में   विभिन्न विभागीय योजनाओं एवं परिसंपत्तियों को  350 करोड़   रुपयों के नुकसान का आकलन किया  

गया है । 

विधानसभा अध्यक्ष आज  ज़िला राहत एवं पुनर्वास समिति की उपायुक्त कार्यालय के सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे । 

बैठक में  विधायक नीरज  नैय्यर, डीएस  ठाकुर भी विशेष रुप से उपस्थित रहे । 

कुलदीप सिंह पठानिया ने कहा कि भारी प्राकृतिक आपदाओं के चलते ज़िला में  विभिन्न सड़कों, विद्युत एवं जलापूर्ति  योजनाओं   सहित सरकारी और गैर सरकारी परिसंपत्तियों को काफी नुकसान पहुंचा है । ऐसे में सभी    कार्यालयध्यक्ष विभिन्न विभागीय योजनाओं एवं परिसंपत्तियों के नुकसान का  पूर्ण  वास्तविक आकलन  करने के लिए  दोबारा  समीक्षा कर  समयबद्ध समय सीमा के भीतर उपायुक्त को सूचना उपलब्ध  करवाएं । 

प्राकृतिक आपदा से प्रभावित किसानों एवं बागवानों के वास्तविक नुकसान का प्रभावी आकलन करने को लेकर श्री कुलदीप सिंह पठानिया ने  उपनिदेशक  कृषि एवं  उद्यान    को राजस्व विभाग के साथ संयुक्त रूप से कार्यों के लिए निर्देशित किया । 

साथ में उन्होंने  लोगों के कच्चे और पक्के घरों   को हुए नुकसान  के दोबारा आकलन को लेकर भी ज़िला राजस्व अधिकारी को  आवश्यक कदम उठाने के निर्देश  दिए। 

उन्होंने उपनिदेशक प्रारंभिक एवं उच्च शिक्षा को   विद्यालय भवन तथा खेल मैदान, चार दिवारी, रास्ता इत्यादि  को हुए नुकसान का की अलग- अलग सूची उपलब्ध करवाने को कहा। 

बैठक में उपायुक्त अपूर्व देवगन ने बारिश और बादल फटने की घटनाओं से  ज़िला में हुए नुकसान  से संबंधित जानकारी को प्रस्तुतीकरण के माध्यम से प्रदान किया । 

उन्होंने  बताया कि  अधिकांश सड़कों, पेयजल योजनाओं  एवं विद्युत आपूर्ति व्यवस्था को बहाल कर दिया गया है।  

साथ में उन्होंने यह भी बताया कि ज़िला में आपदा प्रभावित लोगों को   4  करोड़ रुपए तत्काल राहत राशि के रूप में उपलब्ध करवाए जा चुके हैं ।

प्राकृतिक आपदा के कारण ज़िला में  लोक निर्माण विभाग  84  करोड़, जल शक्ति विभाग 86 करोड़, विद्युत बोर्ड  को लगभग 27  करोड़,  एनएच को  75 करोड़ की राशि का नुकसान  हुआ है । 

विधानसभा अध्यक्ष   ने ज़िला में क्षतिग्रस्त विभिन्न विभागीय योजनाओं की पुनर बहाली के कार्यों में  ज़िला प्रशासन की  सराहना भी की । साथ में उन्होंने  उत्तर भारत की प्रसिद्ध श्री मणिमहेश यात्रा के दौरान अधिकारियों को  उचित व्यवस्था सुनिश्चित बनाने को लेकर आवश्यक कदम उठाने की निर्देश भी दिए । 

बैठक में  जनजातीय उपमंडल भरमौर के प्रभावित गांव की डीपीआर बनाने, भूस्खलन से प्रभावित चंबा शहर  का कश्मीरी मोहल्ला, पंडित जवाहरलाल नेहरू राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय से बालू संपर्क सड़क पर पक्का   टाला के समीप  क्षतिग्रस्त मार्ग पर भी विस्तृत  समीक्षा की गई । 

बैठक में विभिन्न एसडीएम ने वर्चुअल रूप से हिस्सा लिया । 

पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव ,अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी भरमौर  नरेंद्र चौहान, सहायक आयुक्त मनीष चौधरी, एसडीएम चंबा 

  चंबा अरुण शर्मा,  भारतीय प्रशासनिक सेवा में प्रोबेशनर अधिकारी इशांत जसवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ कपिल शर्मा,  अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण  दिवाकर पठानिया, जलशक्ति राजेश मोंगरा, विद्युत राजीव ठाकुर, उप निदेशक उच्च शिक्षा प्यार सिंह चाडक,  उपनिदेशक एवं परियोजना अधिकारी ज़िला ग्रामीण विकास अभिकरण विनोद कुमार  सहित विभिन्न विभागों के ज़िला अधिकारी इस अवसर पर मौजूद रहे ।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *